You are here: Home » Trending » ISHQ KHUDA HAI LYRICS – Khushali Kumar & Tulsi Kumar

ISHQ KHUDA HAI LYRICS – Khushali Kumar & Tulsi Kumar

Do Kadam Chalne Ki Chahat Thi Uss Raste Par,
Jis Par Chalne Ko Hath Thama Tha Tumne,
Lagta Tha Bas Yehi Pahuchayegi,
Manzil-E-Safar Tak,

Khoj Puri Ho Gayi,
Shayad Aisa Ehsas Ho Gaya Tha,
Andar Ke Dard Abhi Kuch Der Pehle Tak Dukhte The,
Girne Wale To Na The Hum Kabhi,
Girane Wale Ka Hunar To Dekhiye,
Humne Ah Bhi Kari To Humein Hi Sunayi Na Di,

Pighalte Gaye Uski Sanson Mein Har Pal,
Samne Woh Tha To Har Sabra Kho Baithe,
Sirf Chaha Ki Woh Chahe Mujhe Itna,
Jitna Maine Usko Chaha,
Haule Se Kab Hua Yeh,
Ki Kisi Aur Ka Hokar,
Phir Meri Or Dekh Kar Kaha,
Ki Kami Hai Teri,
Halki Si Mazak Bankar Reh Gayi Khuddari Meri,
Ab Na Hoga Mujhse Yeh Khel Dobara,
Yeh Khel Dobara,

Zehar Vekh Ke Pita Te Ki Keeta,
Ishq Soch Ke Keeta Te Ki Keeta,
Dil De Ke Dil Lain Di,
As Rakhi Ve Bulleya Ve Bulleya,
Pyar Vi Lalach Nal Keeta Te Ki Keeta,

Par Tum Mein Shayad Kuch Khas Hai,
Tumhari Ankhon Mein Bachchon Ki Si Aas Hai,
Tumhare Ankhon Ke Sheeshe Mein,
Mera Chehra Dikha Hai Mujhe,
Mere Chehre Ki Rangat,
Kya Khub Dikhti Hai Inmein,
Sochte Hain Ab Inhin Mein Rahenge,

Zehar Vekh Ke Pita Te Ki Keeta,
Ishq Soch Ke Keeta Te Ki Keeta,
Dil De Ke Dil Lain Di,
As Rakhi Ve Bulleya Ve Bulleya,
Pyar Vi Lalach Nal Keeta Te Ki Keeta,

Chal Zindagi Main Ishq Ke,
Juye Ke Liye Phir Taiyar Hun,
Sari Baziyan Tu Khel Phir Mujhko Miti Mein Rel,
Sab Karke Dekha Ishq Mein Hi Chupi Ibadat Hai,
Waqt Agar Zindagi To Ishq Khuda Hai,
Har Pal Mein Ishq Miti Mein Ishq,
Hawaon Mein Aur Kya Hai Baki, Ishq Khuda Hai.

ISHQ KHUDA HAI FULL LYRICS IN HINDI
दो कदम चलने की चाह थी उस रास्ते पर
जिस पर चलने को हाथ थमा था तुमने
लगता था बस यही पोहंचायेगी मंज़िलेसफर तक,

खोज पूरी हो गयी शायद ऐसा एहसास हो गया था
अंदर के दर्द अभी कुछ देर पहले तक दुखते थे
गिरने वाले तो ना थे हम कभी
गिराने वाले का हुनर तो देखिये
हमे आह भी करी तोह हमें ही सुनाई ना दी

पिघलते गए उसको साँसों में हर पल,
सामने वो था तोह हर सब्र खो बैठे
सिर्फ चाहा कि वो चाहे मुझे इतना
जितना मैंने उसको चाहा,

हौले से कब हुवा ये कि किसी और का होकर
सिर्फ मेरी ओर देखकर कहा कि कमी है तेरी,
हलकी सी मज़ाक बनकर रह गयी खुद्दारी मेरी,
अब ना होगा मुझसे ये खेल दोबारा, ये खेल दोबारा।

ज़हर वेख के पीता ते की कीता,
इश्क़ सोचके कीता ते की कीता,
दिल देके दिल लैन दी आस रखी वे बल्लेया,
वे बल्लेया, प्यार वी लालच नाल कीता ते की कीता।

पर तुम में शायद कुछ ख़ास है
तुम्हारी आँखों में बच्चों की सी आस है,
तुम्हारे आँखों के शीशे में मेरा चेहरा दिखा है मुझे
मेरे चेहरे की रंगत क्या खूब दिखती है इनमें
सोचते हैं अब इन्ही में रहेंगे।

ज़हर वेख के पीता ते की कीता,
इश्क़ सोचके कीता ते की कीता,
दिल देके दिल लैन दी आस रखी वे बल्लेया,
वे बल्लेया, प्यार वी लालच नाल कीता ते की कीता।

चल ज़िन्दगी मैं इश्क़ के जुवे के लिए फिर तैयार हूँ
साडी बाज़ियां तू खेल फिर मुझको मिटटी में रेल
सब करके देखा इश्क़ में ही छुपी इबादत है
वक़्त अगर ज़िन्दगी तोह इश्क़ खुदा है,
हर पल में इश्क़ मिट्टी में इश्क़, हवाओं में और क्या है बाकी,
इश्क़ खुदा है, इश्क़ खुदा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *